Wednesday, October 28, 2020
prachi

⎸ weekend - top post ⎹

⎸ recently published ⎹

Umeed

0
Manzilein doondhe Rasta ghor Andhera Chaya hn.... Ab Jeevan ujwal hoga aisa man mein Thana hn....... Mazi dhoodhe kinara sagar mein...

Humsafar……

0
Zindagi mein humsafar manga tha virana safar nahi.... Dil ki batein samjhane vala nahi sunne vala manga tha...... Naa mano naa...

शाम धीरे धीरे गुज़र

उनके पहलू में बैठकर, अच्छा लग रहा है ये पहर । चाय की लेते हुए चुस्कियां , लंबी बातों का ये सफ़र...

पहली रात

0
तेरे जिस्म मै अपने जिस्म को रखु तेरे होठं को अपने होठं से मस्लू तुम्हे प्यार मै इतने शिद्दत से करू की...

मीठा एहसास

0
प्यार का मीठा एहसास दिलाने लगी हो तुम अब तो मुझको मुखी से चुराने लगी हो तुम तेरी चाहत का छाया...

सच्ची झूठी बातें

2
सच्ची झूठी बातें रवि शंकर साह ------------------------------------------- आओ हम सब सच्ची झूठी बात करें। अपनों से अपनी दिल की बात करें। तुम हमारी जयजयकार...

मेरी तन्हाई

0
मैं भी कभी तन्हा ना रहुं "साथी", ये मेरी रब से थी हमेशां ही दुआ। तेरे जैसा हम सफर हो काश, यह...

खेलें रोज पहेली

0
राजनीति की चालें होती कैसी मैली लाभ उठाएँ सबका। खेले रोज पहेली। वोट सगा है इनका वादे इनके झूठे निर्धन देखें सपने देव रहें बस रूठे भूखों...

पहाड़ाँ वाली मैया

0
बीच पहाड़ाँ भवन है मां का। पावन पर्वत पर जइयो।। वहां देवी माता आएंगी। तू देखता रहियो। जब देवी माता आएं तो तू भी...

⎸ stories ⎹

मुर्दों के सम्प्रदाय

0
"पापा, हम इस दुकान से ही मटन क्यों लेते हैं? हमारे घर के पास वाली दुकान से क्यों नहीं?" बेटे ने कसाई की दुकान...

बंद पड़े सारे स्कूल

0
बन्द पड़े सारे स्कूल *************** बन्द पड़े सारे स्कूल वक्त हो रहा फिजूल शिक्षण की संस्थाएं बिगड़ी हैं अवस्थाएँ मौज मस्ती में बच्चे सोचें भाग्य हैं अच्छे शैक्षणिक कार्य बंद कोरोना से प्रतिबंध शिक्षक,शिक्षा,सुदूर लगती...

केन्दी हा केन्दी ना

0
केन्दी हा केन्दी ना वो हमारे प्यार को, ना समझ आता हैं बेक़रार दिल को, हैं प्यार रुपये मैं तुला, बिन इसके नहीं मिलता आपको कोइ राह...

आस

0
आज भी ननुआ के खेत को पानी नहीं मिल सका क्योंकि ट्यूबवेल केवल एक बड़े किसान के ही पास थी । तपती चिलचिलाती जून...

हौसलों की उड़ान

0
"अरे मुन्नी ,तूने अपने लायक कचरा तो बीन लिया, अब और कितना बीनेगी" "मुझे अनाथ आश्रम खोलना है ना अम्मा, इसीलिए और बीन रही हूँ...

सच्चे मित्र की मित्रता

0
विनीशा अपने बगीचे में चुपचाप गहरी सोच में डूबी हुई थी। अपने आठ साल के बेटे पार्थ को सच्ची मित्रता नहीं समझा पा रही...

⎸ poems ⎹

Umeed

0
Manzilein doondhe Rasta ghor Andhera Chaya hn.... Ab Jeevan ujwal hoga aisa man mein Thana hn....... Mazi dhoodhe kinara sagar mein ghor tufan Chaya hn...... Ab Tufan...

Humsafar……

0
Zindagi mein humsafar manga tha virana safar nahi.... Dil ki batein samjhane vala nahi sunne vala manga tha...... Naa mano naa smajho naa Suno koi baat...

पहली रात

0
तेरे जिस्म मै अपने जिस्म को रखु तेरे होठं को अपने होठं से मस्लू तुम्हे प्यार मै इतने शिद्दत से करू की उस मीठे दर्द से तेरी...

मीठा एहसास

0
प्यार का मीठा एहसास दिलाने लगी हो तुम अब तो मुझको मुखी से चुराने लगी हो तुम तेरी चाहत का छाया है सुरूर इस कदर हर पल...

सच्ची झूठी बातें

2
सच्ची झूठी बातें रवि शंकर साह ------------------------------------------- आओ हम सब सच्ची झूठी बात करें। अपनों से अपनी दिल की बात करें। तुम हमारी जयजयकार करना। मैं तुम्हारी जयजयकार करूँगा। कुछ तुम...

मेरी तन्हाई

0
मैं भी कभी तन्हा ना रहुं "साथी", ये मेरी रब से थी हमेशां ही दुआ। तेरे जैसा हम सफर हो काश, यह तलाश का सफर खत्म हुआ।। तेरी...

⎸ articles ⎹

बलात्कार एक जघन्य अपराध, कैसे लगे अंकुश ?

0
यदि किसी संस्कृति को समझना है तो सबसे जरुरी है कि हम उस संस्कृति की महिलाओं के बारे में जानें, उनके हालात और परिस्थितियों...

औषधीय गुणों से भरपूर मूली

2
प्रकृति ने हमें विभिन्न प्रकार के फल-फूल, सब्जियाँ एवं कंदमूल प्रदान किये हैं, इन्हीं में से पौष्टिक तत्वों से भरपूर मूली भी एक सब्जी...

समय बड़ा बलवान

0
समय सबसे ज्यादा शक्तिशाली है। क्योंकि समय को तो भगवान कृष्ण ने भी सबसे ऊपर रखा है ।समय का उपयोग जिसने भी कर लिया...

प्रकृति की परिवर्तनशीलता

0
इस नश्वरवादी जगत में प्रकृति की परिवर्तनशीलता के आगे हम शुन्य मात्र है, इसलिए जो हमारे सामने आज विद्यमान है, वोकल हो सकता है...

हिन्दी हिंदुस्तान का गौरव …….

0
हिन्दुस्तान" का गौरव ,हिंदी मेरी मातृ भाषा, हिंदुस्तान की पहचान हिंदुस्तान का गौरव "हिंदी" मेरी मातृ भाषा का इतिहास सनातन ,श्रेष्ठ,एवम् सर्वोत्तम है । भाषा...

जीवन

0
मनुष्य का निर्माण प्रकृति से ही होता है प्रकृति से ही संसार कि सभी प्रकार के जीव जंतुओं का जीवन चक्र चलता है एक...

⎸ ghazals ⎹

वादा

0
कर के वादा शाम का, वो मिलने आये रात मैं, हैं दिल बेचैन , वो बहलाने आये रात मैं, हो गईं हैं मोहब्बत तुमसे इतनी, की तुम रोये वहाँ...

माँमत मार उदर में

0
***माँ मत मार उदर में*** ********************* माँ मत मार मुझे यूँ उदर में जन्म लेना चाहूँ मैं जठर में पुत्र चाहत में क्यों करे पाप बेटी को क्यों रोके...

गले लग जाओ एक बार

0
*गले लग जाओ एक बार** ********************* गिले शिकवे भूलो एक बार आ लग जाओ गले एक बार विरहा की मारी ,रस्ता देखे आ बुझा जा अग्न एक बार आधी बीती...

सिलसिले प्यार के

0
**सिलसले प्यार के** ***************** सिलसिले हुए प्यार के प्यार में एतबार के आँखें दो से चार हों आ गए दिन बहार के अकेलापन भा जाए द्वार बन्द बाजार के चक्र जब काटने...

बेदर्दी बालम

0
***** बेदर्दी बालम ***** ********************* बेदर्दी बालम जी कहाँ गए नहीं मिले हमें हम जहाँ गए छोटी सी बात बड़ी कर गए कर के दो दो हाथ कहाँ गए उनकी...

150पोस्ट

0
सुरु हुआ जो सफर सुहाना, आ पहुचा ह 150 पोस्ट तक, शायरी मैं पहचान बनी, कविताओं मैं सराह, सहित्य पब्लिकेशन के साथ साथ बानी हैं पहचान, शयार ए अभी...

⎸ other genres ⎹

खेलें रोज पहेली

0
राजनीति की चालें होती कैसी मैली लाभ उठाएँ सबका। खेले रोज पहेली। वोट सगा है इनका वादे इनके झूठे निर्धन देखें सपने देव रहें बस रूठे भूखों की बस्ती में ट्रक शराब उड़ेली। भूख...

पहाड़ाँ वाली मैया

0
बीच पहाड़ाँ भवन है मां का। पावन पर्वत पर जइयो।। वहां देवी माता आएंगी। तू देखता रहियो। जब देवी माता आएं तो तू भी जोत जला देना, सब मनोकामना पूरी...

प्रेम ( मंजूर के दोहे )

0
प्रेम **** ( दोहा ) ******* १) प्रेम की बंसी सुमधुर,मंत्रमुग्ध करी जाए। सुध-बुध का न पता चले,एकांत समय बिताए।। २) जीवन में प्रेम महान, कुछ न इसके समान। मान सम्मान जहां मिले,वही...

कष्टन से दो चार

0
कस्टन से हुए दो चार अब पछताय काहे जे करै सामना ते ही पावै निजात सुख में पराए भी आपन होवे दुख सच्चा साथी सबकर ही पहचान...

मासूम बेटिया

0
********* मासूम बेटियाँ ******** **************************** फूल सी नाजुक मासूम होती हैं बेटियाँ कायनात पर नियामत होती है बेटियाँ संवेदनशील होता है स्वभाव निराला संयमित मान मर्यादित होती है बेटियाँ बेटों...

गाँव की खुशबू

0
******गाँव की खुश्बू******* *********************** गाँव की खुशबू रग रग समाई जहाँ पे देखूँ,दे पग.पग दिखाई पीपल,बरगद,नीम सघन छाया जहाँ पर प्यारा बचपन बिताया बाल सखा संग पींगें चढाई जहाँ पे देखूँ,...