Thursday, January 21, 2021
prachi

⎸ weekend - top post ⎹

⎸ recently published ⎹

स्वागत करो

नव वर्ष का      नव हर्ष का । नव संघर्ष का ,      नव उत्कर्ष का ।। नव उमंग का ,  ...

वो अप्सरा

3
वो अप्सरा सी हसीन, है जैसे अंघुटी मैं जरह हो नगीना हसीन, अप्सरा हैं कोई क्या ये उसे भी नही यकीन, नायाब...

ठंढ़ी आई

0
#बालगीत ठण्ढ़ी आई ठण्ढ़ी आई बच्चे बोलें ओढ रजाई आओ गरम जलेबी खा लो बोल उठे छन्नू हलवाई खेत में पीली सरसों फूली हरी मटर...

नया साल का शोर

0
नया साल आ रहा है। नया साल आ रहा है। हर तरफ यह शोर है। बच्चों और युवाओं में इसका बड़ा जोर है। नए...

ठंढ़ी आई

1
#बालगीत ठण्ढ़ी आई ठण्ढ़ी आई बच्चे बोलें ओढ रजाई आओ गरम जलेबी खा लो बोल उठे छन्नू हलवाई खेत में पीली सरसों फूली हरी मटर...

राहा के मुसाफिर

0
राह मैं मिलते ह मुसाफिर युन्ह तो बहुत, हर कोई तुम्हारा साथी हो ये तो जरूरी नही, सितारों की चाओ मैं...

तेरा मेरा रिश्ता

पहले जैसे ना तेरा मेरा रिश्ता आज है । याद तो होगा तुझे भी पर ना अब अहसास है ।। बारिश...

किसान मेरे देश के

0
ravi हक की लड़ाई लड़ने चल पड़े हैं । किसान मेरे देश के। आँधियों और तूफानों से लड़ रहे हैं। किसान मेरे देश...

ठंड में ठिठुरते ठिठुरते

0
कुछ काम करते करते, कुछ सूरज के चढ़ते उतरते, सुबह से शाम, फिर भी हो जाती है, किसी तरह ठंड में ठिठुरते...

⎸ stories ⎹

मुर्दों के सम्प्रदाय

0
"पापा, हम इस दुकान से ही मटन क्यों लेते हैं? हमारे घर के पास वाली दुकान से क्यों नहीं?" बेटे ने कसाई की दुकान...

बंद पड़े सारे स्कूल

0
बन्द पड़े सारे स्कूल *************** बन्द पड़े सारे स्कूल वक्त हो रहा फिजूल शिक्षण की संस्थाएं बिगड़ी हैं अवस्थाएँ मौज मस्ती में बच्चे सोचें भाग्य हैं अच्छे शैक्षणिक कार्य बंद कोरोना से प्रतिबंध शिक्षक,शिक्षा,सुदूर लगती...

केन्दी हा केन्दी ना

0
केन्दी हा केन्दी ना वो हमारे प्यार को, ना समझ आता हैं बेक़रार दिल को, हैं प्यार रुपये मैं तुला, बिन इसके नहीं मिलता आपको कोइ राह...

आस

0
आज भी ननुआ के खेत को पानी नहीं मिल सका क्योंकि ट्यूबवेल केवल एक बड़े किसान के ही पास थी । तपती चिलचिलाती जून...

हौसलों की उड़ान

0
"अरे मुन्नी ,तूने अपने लायक कचरा तो बीन लिया, अब और कितना बीनेगी" "मुझे अनाथ आश्रम खोलना है ना अम्मा, इसीलिए और बीन रही हूँ...

सच्चे मित्र की मित्रता

0
विनीशा अपने बगीचे में चुपचाप गहरी सोच में डूबी हुई थी। अपने आठ साल के बेटे पार्थ को सच्ची मित्रता नहीं समझा पा रही...

⎸ poems ⎹

ठंढ़ी आई

0
#बालगीत ठण्ढ़ी आई ठण्ढ़ी आई बच्चे बोलें ओढ रजाई आओ गरम जलेबी खा लो बोल उठे छन्नू हलवाई खेत में पीली सरसों फूली हरी मटर की बात निराली सुबह घास पर...

नया साल का शोर

0
नया साल आ रहा है। नया साल आ रहा है। हर तरफ यह शोर है। बच्चों और युवाओं में इसका बड़ा जोर है। नए साल के आगमन का आहट अब...

ठंढ़ी आई

1
#बालगीत ठण्ढ़ी आई ठण्ढ़ी आई बच्चे बोलें ओढ रजाई आओ गरम जलेबी खा लो बोल उठे छन्नू हलवाई खेत में पीली सरसों फूली हरी मटर की बात निराली सुबह घास पर...

तेरा मेरा रिश्ता

पहले जैसे ना तेरा मेरा रिश्ता आज है । याद तो होगा तुझे भी पर ना अब अहसास है ।। बारिश है हो रही पर अब...

किसान मेरे देश के

0
ravi हक की लड़ाई लड़ने चल पड़े हैं । किसान मेरे देश के। आँधियों और तूफानों से लड़ रहे हैं। किसान मेरे देश के। हर जुल्मों सितम को झेलते...

ठंड में ठिठुरते ठिठुरते

0
कुछ काम करते करते, कुछ सूरज के चढ़ते उतरते, सुबह से शाम, फिर भी हो जाती है, किसी तरह ठंड में ठिठुरते ठिठुरते।।   पीड़ा में बदल जाती है...

⎸ articles ⎹

बलात्कार एक जघन्य अपराध, कैसे लगे अंकुश ?

0
यदि किसी संस्कृति को समझना है तो सबसे जरुरी है कि हम उस संस्कृति की महिलाओं के बारे में जानें, उनके हालात और परिस्थितियों...

औषधीय गुणों से भरपूर मूली

2
प्रकृति ने हमें विभिन्न प्रकार के फल-फूल, सब्जियाँ एवं कंदमूल प्रदान किये हैं, इन्हीं में से पौष्टिक तत्वों से भरपूर मूली भी एक सब्जी...

समय बड़ा बलवान

0
समय सबसे ज्यादा शक्तिशाली है। क्योंकि समय को तो भगवान कृष्ण ने भी सबसे ऊपर रखा है ।समय का उपयोग जिसने भी कर लिया...

प्रकृति की परिवर्तनशीलता

0
इस नश्वरवादी जगत में प्रकृति की परिवर्तनशीलता के आगे हम शुन्य मात्र है, इसलिए जो हमारे सामने आज विद्यमान है, वोकल हो सकता है...

हिन्दी हिंदुस्तान का गौरव …….

0
हिन्दुस्तान" का गौरव ,हिंदी मेरी मातृ भाषा, हिंदुस्तान की पहचान हिंदुस्तान का गौरव "हिंदी" मेरी मातृ भाषा का इतिहास सनातन ,श्रेष्ठ,एवम् सर्वोत्तम है । भाषा...

जीवन

0
मनुष्य का निर्माण प्रकृति से ही होता है प्रकृति से ही संसार कि सभी प्रकार के जीव जंतुओं का जीवन चक्र चलता है एक...

⎸ ghazals ⎹

वो अप्सरा

3
वो अप्सरा सी हसीन, है जैसे अंघुटी मैं जरह हो नगीना हसीन, अप्सरा हैं कोई क्या ये उसे भी नही यकीन, नायाब हैं वो नगीना क्या हैं...

राहा के मुसाफिर

0
राह मैं मिलते ह मुसाफिर युन्ह तो बहुत, हर कोई तुम्हारा साथी हो ये तो जरूरी नही, सितारों की चाओ मैं साथ तुम्हारा हमारा हो, ये तो...

मेरे चन्द नये शेर

0
(1) बड़ी दिलफरेब है मेरे महवूब की शोख़ी शायद इसी वजह से शोख़ हुयी है सारी कायनात ।। (2) च़राग तो रोशनी करने को जलता है ये पतंगे का...

ज़िन्दगी की शाम

0
  हर इक शख्श परेशान हैं कुछ पाने को कुछ पाने के लिए अपना सब कुछ लुटाने को सब कुछ हार के न जाने क्या जीत जाने...

तन्हाई

0
  कौन कहता हैं की दुनिया परेशान करती हैं ये तो सिर्फ कहने की बात हैं हर एक इंसान तन्हा हैं यहाँ भीड़ मैं अक्सर सिर्फ और सिर्फ...

वादा

0
कर के वादा शाम का, वो मिलने आये रात मैं, हैं दिल बेचैन , वो बहलाने आये रात मैं, हो गईं हैं मोहब्बत तुमसे इतनी, की तुम रोये वहाँ...

⎸ other genres ⎹

स्वागत करो

नव वर्ष का      नव हर्ष का । नव संघर्ष का ,      नव उत्कर्ष का ।। नव उमंग का ,      नव तरंग का । नव...

पिता

0
पिता जो उम्मीद हैं हर इक परिवार की हर इक मुश्किल सवाल के जवाब की अंधेरी रात के बाद सुनहरी सुबह के आगाज की थकान के बाद...

अवध में राम आए हैं

0
दीपों से भरी अयोध्या ,मनमोहक लगती है। वहां सियाराम आए हैं ,मेरे श्रीराम आए हैं।। पाँच लाख इक्यावन हजार , दिए जल गए। आभामय हुई अयोध्या, अवध...

सपने ही तो अपने होते हैं

2
सपनों के पंख जब यथार्थ के धरातल पर पर उड़ान भरते हैं तब ही तो अद्भुत अविष्कार एवम् चमत्कार होते हैं भव्य अतुलनीय प्रस्तुतियों की मिसाल विश्व की...

खेलें रोज पहेली

0
राजनीति की चालें होती कैसी मैली लाभ उठाएँ सबका। खेले रोज पहेली। वोट सगा है इनका वादे इनके झूठे निर्धन देखें सपने देव रहें बस रूठे भूखों की बस्ती में ट्रक शराब उड़ेली। भूख...

पहाड़ाँ वाली मैया

0
बीच पहाड़ाँ भवन है मां का। पावन पर्वत पर जइयो।। वहां देवी माता आएंगी। तू देखता रहियो। जब देवी माता आएं तो तू भी जोत जला देना, सब मनोकामना पूरी...