Tuesday, August 4, 2020
prachi

⎸ weekend - top post ⎹

⎸ recently published ⎹

कुछ भइल बा कुछ बाकी बा… ( भोजपुरी भाषा...

0
कुछ भइल बा कुछ बाकी बा..... ************************** ( भोजपुरी भाषा में ) ******************* कुछ भइल बा कुछ बाकी बा, इ# त # आवे वाला...

भाई की याद

0
राखी के पावन बंधन को तोड़ गया ऐसे भाई सूना-सूना मन का आँगन आँखें रहती हैं पथराई।। सावन आकर मुझे रुलाए नयनों से झर-झर...

बहन की फरियाद

0
********बहन की फरियाद******** ***************************** माँ जाए ओ भाई तनिक बात तो सुन दे रही हूँ दुहाई तनिक बात तो सुन मुख फैलाए बैठा...

पवन सा है रक्षा बंधन…

0
पवन सा है रक्षा बंधन... ******************* पवन सा है रक्षा बंधन एक पावन पर्व धागों के बंधन में छुपा कर्त्तव्य बहना को भैया, भैया को...

रक्षाबंधन का त्योहार आया

0
*रक्षाबंधन का त्योहार आया* *********************** खुशियों से भरा त्योहार आया रक्षाबन्धन का त्योहार आया श्रावन महीना सुहाना आया रिमझिम शीत फुहार है लाया प्रेम,नेह,प्रीत का...

दोस्ती भरा दोस्ताना है

0
*दोस्तों भरा दोस्ताना है* ****************** आवाज दो तो हाजिर हैं दोस्तों भरा दोस्ताना है स्वार्थों से हो कर वो परे निस्वार्थ प्रेम पुराना है मंजिलें...

पुराने दोस्त

0
जब गांव की गलियों से गुजरता हूँ एक अजीब सा सन्नाटा नजर आता है एक कसक जो मुझे खाये जा रही...

अब देर न करो !

0
nawab अब देर न करो ! ************* आग बुझने से पहले हवा दो, कपूर डाल धधका दो, सोचते हो क्या? देखते हो क्या ? जा इस दलदल...

दोस्ती

0
******* दोस्ती ******* ******************** खुदा के जो करीब होता है जिसे दोस्त नसीब होता हैं चाहे रंक हो या फिर रईस बराबरी का हबीब...

⎸ stories ⎹

शहीद की राखी

0
बगीचे में विदिशा गुमसुम बैठी थी। चेहरे पर मायूसी, आंखों में से झर-झर बहते आंसू, उसका हाल-ए-दिल बयां कर रहे थे। बैठे-बैठे वह अपने...

सावन में दादी के नुस्खे

0
सावन आते ही अम्मा की नसीहत शुरू हो जाती। सावन में यह करो यह मत करो, बचपन से सुनती आ रही थी यह सब,...

कुँए का अभिमान

कहानी  : कुँए का अभिमान  नरहरि पहाड़ की तलहटी से कोस भर की दूरी पर बसा शरणापुर नामक एक गाँव था। प्रकृति का मनोहर परिदृश्य...

धानी की हरियाली तीज

0
"मां मेरे लिए नई चूड़ियां और नए कपड़े ला दो ना।" हरियाली तीज आने पर धानी ने मां से जिद की। धानी अगली बार...

सावन का सोमवार

0
सावन का पहला सोमवार आया। वेदिका के मन में शिव मंदिर जाने की इच्छा जागी। उत्सुकता वश जल्दी-जल्दी सुबह उठकर उसने घर का सारा...

मुकम्मल जिंदगी अधूरा प्यार

0
राज ने इंटरमीडिएट की परीक्षा पास कर बीएससी करने हेतु पास कस्बे के एक प्रसिद्ध कॉलेज में प्रवेश लिया एक आम विद्यार्थी की भांति...

⎸ poems ⎹

कुछ भइल बा कुछ बाकी बा… ( भोजपुरी भाषा...

0
कुछ भइल बा कुछ बाकी बा..... ************************** ( भोजपुरी भाषा में ) ******************* कुछ भइल बा कुछ बाकी बा, इ# त # आवे वाला समय के झांकी बा; अभी नमूना...

पवन सा है रक्षा बंधन…

0
पवन सा है रक्षा बंधन... ******************* पवन सा है रक्षा बंधन एक पावन पर्व धागों के बंधन में छुपा कर्त्तव्य बहना को भैया, भैया को अपनी बहना पर है गर्व। इसे...

दोस्ती भरा दोस्ताना है

0
*दोस्तों भरा दोस्ताना है* ****************** आवाज दो तो हाजिर हैं दोस्तों भरा दोस्ताना है स्वार्थों से हो कर वो परे निस्वार्थ प्रेम पुराना है मंजिलें मिल ही जाती हैं दोस्तों से...

पुराने दोस्त

0
जब गांव की गलियों से गुजरता हूँ एक अजीब सा सन्नाटा नजर आता है एक कसक जो मुझे खाये जा रही है एक महक जो अभी भी...

अब देर न करो !

0
nawab अब देर न करो ! ************* आग बुझने से पहले हवा दो, कपूर डाल धधका दो, सोचते हो क्या? देखते हो क्या ? जा इस दलदल में उतर जा ! चुन ला...

दोस्ती

0
******* दोस्ती ******* ******************** खुदा के जो करीब होता है जिसे दोस्त नसीब होता हैं चाहे रंक हो या फिर रईस बराबरी का हबीब होता है तेरी दोस्ती मेरा खजाना...

⎸ articles ⎹

राष्ट्रध्वज फहरानें के नियम

0
पन्द्रह अगस्त आ रहा है स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रध्वज फहराया जायेगा। यद्यपि भारत सरकार नें वर्ष के 365 दिन भारतीय नागरिकों को रास्ट्रध्वज फहरानें...

नाग पंचमी

0
आज नाग पंचमी है । यह उत्तर भारत के प्रमुख त्यौहारों में से एक है । यह श्रावण मास के शुक्लपक्ष की पंचमी तिथि...

लेख

0
1 ***********लॉकडाऊन के मध्य जीवन ********* **************** निबंध******************** कुदरत या बीमारी का जब बरसता कहर, तबाह हो जाते है तब बड़े शहर के शहर। कोरोना वायरस के प्रभाव के...

ओली की अयोध्या

0
ओली की अयोध्या अभी हाल ही में नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी.शर्मा ओली नें बयान दिया कि असली अयोध्या तो नेपाल में है । उनके अनुसार...

योग…एक अनुभूति,एक साधना

0
योग न धर्म से जुड़ा है न जाति से। इसे विशेष धर्म से जोड़ने वाले समझें कि योग एक शारीरिक अभ्यास है। विभिन्न योग...

आकाशीय बिजली और बसंत ऋतु

मानसूनी काल और आकाशीय बिजली मानसून आ चुका है, समस्त भारतवर्ष में बसंत ऋतु का आगमन हो चुका है। भारत के लगभग हर भाग...

⎸ ghazals ⎹

बहन की फरियाद

0
********बहन की फरियाद******** ***************************** माँ जाए ओ भाई तनिक बात तो सुन दे रही हूँ दुहाई तनिक बात तो सुन मुख फैलाए बैठा छोटी सी बात पर दे रही...

रक्षाबंधन का त्योहार आया

0
*रक्षाबंधन का त्योहार आया* *********************** खुशियों से भरा त्योहार आया रक्षाबन्धन का त्योहार आया श्रावन महीना सुहाना आया रिमझिम शीत फुहार है लाया प्रेम,नेह,प्रीत का संदेशा लाया भ्राता स्वसा को साथ...

मुंशी प्रेमचंद

0
उपन्यासकार कहानीकार मुंशी प्रेमचंद ***************************** करूँ शत शत नमन मुंशी प्रेमचंद को साहित्य के कर्णधार मुंशी प्रेमचंद को माता आनंदी की कोख से जन्म पाया मुंशी अजायबराय था पिता...

धूँए की आँच से

0
****** धूँए की आँच से ******** *************************** दम सा घुटने लगा धूँए की आँच से सिर चकराने लगा धूँए की आँच से नाक,आँख,कान से आने लगा पानी मन घबराने...

सैलाबी कर लेता नैया पार

0
***सैलाबी कर लेता नैया पार*** ************************** जल जीवन का है अमूल्य उपहार वन, वन्य, धान्य,प्राणी का आधार जब धारता है कभी रूप विनाशक सैलाब बन के देता धन जन...

मोती माला बिखर जाती है

0
*मोती माला बिखर जाती है* ********************** जब प्यार की आँधी आती है बेचैनी बढ़ा कर जाती है रिद्धि,सिद्धि कहीं पे खो जाए बुद्धि लब्धि शून्य हो जाती है संवेदना से...

⎸ other genres ⎹

भाई की याद

0
राखी के पावन बंधन को तोड़ गया ऐसे भाई सूना-सूना मन का आँगन आँखें रहती हैं पथराई।। सावन आकर मुझे रुलाए नयनों से झर-झर मेघ झरे चिट्ठी लिख-लिख रखती रहती पर...

राखी का त्योहार

0
राखी त्योहार *********** १ रक्षाबंधन प्यार का त्योहार भाई बहन २ श्रावण मास पुर्णिमा को है आए राखी तयोहार ३ थाली सजाए रोली कुमकुम से टीका लगाए ४ बांधे कलाई रेशम की डोर से रक्षा का वादा ५ भ्रातृ स्वसा का झलकता है प्यार दें...

हर्षित वसुधा

0
मेघदूत संदेशा लाए शीतल-शीतल छाँव-घनी। तिनके-तरुवर पुष्प-पात पर दिखती कितनी ओस-कनी। भीषण ताप सहे वसुधा ने पतझड़ जबसे आया था खोकर अपना रूप सलोना मन उसका मुरझाया था। फिर बसंत आया चुपके...

अंबिए कदो दिया फेरा

0
******* अंबिए कदो दा फेरा ****** ***************************** रूहा न उदासियाँ अंबिए कदो दा फेरा अखां न प्यासियाँ अंबिए कदो दा फेरा माए नी मेरिए दस कित्थे लाया तू...

शिवस्तुति

0
श्रावण मास को भगवान शिव का महीना माना गया है। शिव (पुरूष) और शक्ति (प्रकृति) के संयोग से ही व्रह्माण्ड उत्पन्न हुआ है और...

कोरोना की पीर शूल-सी

0
पथराए से नयन देखते धूमिल सब संसार हुआ मानव हार रहा है बाजी काल खेलता रहा जुआ। टूटे दर्पण से बिखरे सब सपनों के टुकड़े-टुकड़े अजगर बैठा मार कुंडली जीवन को...