Tuesday, August 11, 2020
prachi

⎸ weekend - top post ⎹

⎸ recently published ⎹

मातृ की तकदीर हैं

0
मेरे देश के ये वीर हैं जो वीरों के भी पीर हैं मां का आंचल छोड़कर जो वार देते शिर हैं धर्म-कर्म...

साँझ की बारिश

भूमिका:- आज की मेरी कविता का शीर्षक है :- *साँझ की बारिश* कहते है शाम को आने वाली बरसात जल्दी से जाती...

अगर पिज़्ज़ा बर्गर बोलते..

0
पिज़्ज़ा - हेलो बर्गर! बर्गर - हाय! पिज़्ज़ा। पिज़्ज़ा - कैसे हो? बर्गर - कुछ नहीं, बस आजकल मेरी मांगे कुछ ज्यादा...

वतन

0
वतन **** वतन से हम है, वतन के लिए हम हैं। वतन से है हिम्मत अपनी, वतन से है इज्जत अपनी । वतन की करो...

हे गोवर्धन गिरधारी

0
हे गोवर्धन गिरधारी, तेरी महिमा है अति न्यारी। सांवली - सूरत मोहिनी मूरत, नैनों की छवि अति प्यारी। मोर-मुकुट माथे पर शोभत, कर में...

बेशकीमती आँसू

0
*****बेशकीमती आँसू****** ************************* निर्झर सी आँखों में से निकल कर पलकों से क्यों बरसते हैं आँसू गोरे गुलाबी रुखसार से होकर सुर्ख होठों पर...

शिखर पर्वत हो तुम

0
शिखर पर्वत हो तुम ***************** मेरी दौलत हो तुम मेरी शोहरत हो तुम संग संग चलते रहते मेरी सोहबत हो तुम खोये खोये रहते हम मेरी...

आतंक का व्यापार

0
कहते हैं आतंक का धर्म नहीं होता मगर आतंक से तो पीडित होती मानवता पलायन करते लोग छोडकर घर-बार होते आर-पार सरहद के रोते-टूटते-बिखरते छूटते परिवार मजबूरी में करते सरहदें...

ऐ हवा मेरे दिल की बात सुन

0
ऐ हवा मेरे दिल की बात सुन ********************** ऐ हवा मेरे दिल की बात सुन बज रही यहाँ प्रेमराग की धुन स्नेह के...

⎸ stories ⎹

अगर पिज़्ज़ा बर्गर बोलते..

0
पिज़्ज़ा - हेलो बर्गर! बर्गर - हाय! पिज़्ज़ा। पिज़्ज़ा - कैसे हो? बर्गर - कुछ नहीं, बस आजकल मेरी मांगे कुछ ज्यादा हो रही हैं। क्योंकि मैं...

शहीद की राखी

0
बगीचे में विदिशा गुमसुम बैठी थी। चेहरे पर मायूसी, आंखों में से झर-झर बहते आंसू, उसका हाल-ए-दिल बयां कर रहे थे। बैठे-बैठे वह अपने...

सावन में दादी के नुस्खे

0
सावन आते ही अम्मा की नसीहत शुरू हो जाती। सावन में यह करो यह मत करो, बचपन से सुनती आ रही थी यह सब,...

कुँए का अभिमान

कहानी  : कुँए का अभिमान  नरहरि पहाड़ की तलहटी से कोस भर की दूरी पर बसा शरणापुर नामक एक गाँव था। प्रकृति का मनोहर परिदृश्य...

धानी की हरियाली तीज

0
"मां मेरे लिए नई चूड़ियां और नए कपड़े ला दो ना।" हरियाली तीज आने पर धानी ने मां से जिद की। धानी अगली बार...

सावन का सोमवार

0
सावन का पहला सोमवार आया। वेदिका के मन में शिव मंदिर जाने की इच्छा जागी। उत्सुकता वश जल्दी-जल्दी सुबह उठकर उसने घर का सारा...

⎸ poems ⎹

मातृ की तकदीर हैं

0
मेरे देश के ये वीर हैं जो वीरों के भी पीर हैं मां का आंचल छोड़कर जो वार देते शिर हैं धर्म-कर्म निष्ठा इन की सरहद की...

साँझ की बारिश

भूमिका:- आज की मेरी कविता का शीर्षक है :- *साँझ की बारिश* कहते है शाम को आने वाली बरसात जल्दी से जाती नही है, रात भर टिप...

वतन

0
वतन **** वतन से हम है, वतन के लिए हम हैं। वतन से है हिम्मत अपनी, वतन से है इज्जत अपनी । वतन की करो खिदमत सखी, वतन की करो हिफाजत...

बेशकीमती आँसू

0
*****बेशकीमती आँसू****** ************************* निर्झर सी आँखों में से निकल कर पलकों से क्यों बरसते हैं आँसू गोरे गुलाबी रुखसार से होकर सुर्ख होठों पर गिरते हैं आँसू जिनके लिए मर...

शिखर पर्वत हो तुम

0
शिखर पर्वत हो तुम ***************** मेरी दौलत हो तुम मेरी शोहरत हो तुम संग संग चलते रहते मेरी सोहबत हो तुम खोये खोये रहते हम मेरी मोहब्बत हो तुम तुमने कहा ,मैंने...

आतंक का व्यापार

0
कहते हैं आतंक का धर्म नहीं होता मगर आतंक से तो पीडित होती मानवता पलायन करते लोग छोडकर घर-बार होते आर-पार सरहद के रोते-टूटते-बिखरते छूटते परिवार मजबूरी में करते सरहदें पार होते नफरत का शिकार भारी पड़ते...

⎸ articles ⎹

मेरे भारत की संस्कृति

0
हमारा प्यारा भारत देश। परंपरा व संस्कृतियों का अनूठा संगम। पूरब से पश्चिम, उत्तर से दक्षिण तक प्रत्येक स्थान पर अलग अपनी विशेषता लिए...

राष्ट्रध्वज फहरानें के नियम

0
पन्द्रह अगस्त आ रहा है स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रध्वज फहराया जायेगा। यद्यपि भारत सरकार नें वर्ष के 365 दिन भारतीय नागरिकों को रास्ट्रध्वज फहरानें...

नाग पंचमी

0
आज नाग पंचमी है । यह उत्तर भारत के प्रमुख त्यौहारों में से एक है । यह श्रावण मास के शुक्लपक्ष की पंचमी तिथि...

लेख

0
1 ***********लॉकडाऊन के मध्य जीवन ********* **************** निबंध******************** कुदरत या बीमारी का जब बरसता कहर, तबाह हो जाते है तब बड़े शहर के शहर। कोरोना वायरस के प्रभाव के...

ओली की अयोध्या

0
ओली की अयोध्या अभी हाल ही में नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी.शर्मा ओली नें बयान दिया कि असली अयोध्या तो नेपाल में है । उनके अनुसार...

योग…एक अनुभूति,एक साधना

0
योग न धर्म से जुड़ा है न जाति से। इसे विशेष धर्म से जोड़ने वाले समझें कि योग एक शारीरिक अभ्यास है। विभिन्न योग...

⎸ ghazals ⎹

शायाद अब वो मुझे भुलने लगी हैं….

0
....शायाद अब वो मुझे भुलने लगी हैं....  खोल के मेरे अतित 📖 के पन्नों को, लिखते-लिखते ही अब वो सोने लगी हैं..  शायद सच ही कहते थे...

नदियाँ बीच अनेक

0
********नदियाँ बीच अनेक******** ****************************** राहें बेशक अलग हैं ,मंजिल तो है एक सागर में जैसे मिले ,नदियाँ बीच अनेक भांति भांति के पथ यहाँ,उद्देश्य हैं समान तीर चाहे नही...

इश्क ए मोहब्बत इजहार करें

0
*इश्क ए मोहब्बत इजहार करें* *********************** तमन्ना तुमसे जी भर प्यार करें इश्क ए मोहब्बत इजहार करें इश्किया जादू सिर चढ़ के बोले आमिल बन जीवन रंगदार करें तरन्नुम प्रेम...

आंखे तेरी

0
तेरी आँखों का कुछ ऐसा सा असर हुआ , होंठ बेजुबान हो गए, दिल थम सा गया, रुके हुए पल मैं खुशनुमा हवा का पहर सा हुआ, तूझें...

तोहमतें लगीं में हैं बढ़ रही

0
**तोहमतें लगी में हैं बढ़ रही** ************************ रंजिशें जिन्दगी में हैं बढ़ रही बंदिशें बंदगी में हैं बढ़ रही हंस रहें हैं सभी जो हमनशीन दूरी रवानगी में हैं...

बहन की फरियाद

0
********बहन की फरियाद******** ***************************** माँ जाए ओ भाई तनिक बात तो सुन दे रही हूँ दुहाई तनिक बात तो सुन मुख फैलाए बैठा छोटी सी बात पर दे रही...

⎸ other genres ⎹

हे गोवर्धन गिरधारी

0
हे गोवर्धन गिरधारी, तेरी महिमा है अति न्यारी। सांवली - सूरत मोहिनी मूरत, नैनों की छवि अति प्यारी। मोर-मुकुट माथे पर शोभत, कर में बांसुरी है अति प्यारी। बलिहारी ब्रज...

ऐ हवा मेरे दिल की बात सुन

0
ऐ हवा मेरे दिल की बात सुन ********************** ऐ हवा मेरे दिल की बात सुन बज रही यहाँ प्रेमराग की धुन स्नेह के बादल छाये घन घोर सुनने लगी...

जरा याद करें कुर्बानी

0
e ***जरा याद करें कुर्बानी*** ********************** आओ जरा याद करें कुर्बानी आजादी की दास्तान कुर्बानी फिरंगियों के गुलाम कहलाए सोना चाँदी धन धान्य लुटाए नौजवानों की दब गई जवानी आओ जरा याद...

भाई की याद

0
************* राखी के पावन बंधन से मैं बाँध कहाँ उसको पाई सूना-सूना मन का आँगन आँखें रहती हैं पथराई।। सावन आकर मुझे रुलाए नयनों से झर-झर मेघ झरे चिट्ठी लिख-लिख रखती...

भाई की याद

0
राखी के पावन बंधन को तोड़ गया ऐसे भाई सूना-सूना मन का आँगन आँखें रहती हैं पथराई।। सावन आकर मुझे रुलाए नयनों से झर-झर मेघ झरे चिट्ठी लिख-लिख रखती रहती पर...

राखी का त्योहार

0
राखी त्योहार *********** १ रक्षाबंधन प्यार का त्योहार भाई बहन २ श्रावण मास पुर्णिमा को है आए राखी तयोहार ३ थाली सजाए रोली कुमकुम से टीका लगाए ४ बांधे कलाई रेशम की डोर से रक्षा का वादा ५ भ्रातृ स्वसा का झलकता है प्यार दें...