माँमत मार उदर में

0
2

***माँ मत मार उदर में***
*********************

माँ मत मार मुझे यूँ उदर में
जन्म लेना चाहूँ मैं जठर में

पुत्र चाहत में क्यों करे पाप
बेटी को क्यों रोके अधर में

रंग देखना चाहूँ दुनिया के
पैदा करे अवरोध सफर में

बेटियाँ न कमत्तर बेटों से
कैसे क्यों रहे फर्क नजर में

भ्रूणहत्या है पाप से बढ़कर
भ्रूण की क्यों जाँच नगर में

पुत्र की शादी होगी किससे
पुत्री जो नहीं होगी सदर में

औरतें ही औरत की दुश्मन
पुत्रमोह लालच है जिगर में

मनसीरत सुता बिना अधूरा
नन्दिनी बिना मानस हिज्र में
**********************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

prachi
नाम-सुखविंद्र सिंह मनसीरत पिता-श्री गुरमीत सिंह घासीवाल माता-स्व.श्रीमती मनजीत कौर घासीवाल पत्नी-श्रीमती कमलेश मोही (कमल) बेटी-मनसीरत कौर (नूर) व्यवसाय-अंग्रेजी प्रवक्ता, रा.उ.वि.खेड़ी सिम्बल वाली (कैथल) शिक्षा-एम.ए.(अंग्रेजी),बी.एड.,डी,एड प्रारंभिक शिक्षा-रा.प्रा.पा.खेड़ी राओ वाली(कैथल) ज.न. वि.तितरय (कैथल)-हरियाणा जन्मस्थली-खेड़ी राओ वाली (कैथल) जन्मता-06/08/1977 निवास-म.न.-284,HBC मॉडल टाऊन,जीन्द रोड़ कैथल (हरियाणा)-136027 मोबाइल-9896872258 साहित्यिक उपलब्धि- 1(क)काव्य कृति-मनसीरत शहद बूँद (ख) सांझा काव्य संग्रह-मैं निशब्द हूँ 2(क)विलक्षणा साहित्य सारद पुरस्कार (सौजन्य-विलक्षणा संस्था,अजायब) (ख)साहित्यनामा द्वारा certificate of emergence आजादी की कीमत रचना के लिए 3.दी ग्राम न्यूज समह की ऑनलाइन समाचार पत्र दैनिक, साप्ताहिक,मासिक पत्रिका मैं निरन्तरता में प्रकाशित रचनाएं 4.साहित्य मंजरी में प्रकाशित रचनाएं 5.साहित्यिक पीडिया एवं प्रतिलिपि साइट पर निरन्तरता में प्रकाशित रचनाएं 6.हिन्दी,अंग्रेजी,पंजाबी भाषा में लेखन 7,आशु कवि के रुप में ख्याति 8.अंतरा शब्दशक्ति पत्रिका में प्रकाशित रचनाएं 9.साहित्यनामा पत्रिका में प्रकाशित रचनाएं 10.प्राची पब्लीकैशन ब्लॉग पर प्रकाशित रचनाएँ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here