तुम औरत हो

0
9

तुम औरत हो खुद में मत सिमट ज़ाया करो |
बेवजह ही सही पर दिल से मुस्कुराया करो |
दुनिया ने सिक्कों से जेबें भरीं हैं,
तुम अपने क़िस्सों से उनके ज़हन में उतर ज़ाया करो||

Principal Disha Degree college, Dungarpur Ph.D, M.Phill, M.ed, M.A, B.ed,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here