शाम धीरे धीरे गुज़र

उनके पहलू में बैठकर,
अच्छा लग रहा है ये पहर ।
चाय की लेते हुए चुस्कियां ,
लंबी बातों का ये सफ़र ।
शाम का ये हसीं समां ,
उनकी मुस्कराहट का असर ।
कुछ पल और दे सुकून के,
शाम तू थोड़ा सा ठहर ।।

रचना शर्मा “राही”

prachi
विचारों के कारवां को शब्दों में ढालती "राही" शिक्षा - स्नाकोत्तर ( संस्कृत) शिक्षा स्नातक (संस्कृत) व्यवसाय - प्रवक्ता संस्कृत । गद्य पद्य व मुक्तक विधा में लेखन । पुरस्कार व सम्मान - रूबरू मंच द्वारा काव्य व कहानी विधा में "साहित्य श्री सम्मान" । प्रतिलिपि पर कहानी विधा में पाठकों की पसंद में चयन । The साहित्य द्वारा "author of the month" Award. Story mirror द्वारा "अनुभूति की उड़ान" नामक कहानी के लिए विजेताओं में चयन । Story mirror द्वारा "जवाब उस संदेश का" कहानी का विजेताओं में चयन । ग्लोबल फाउंडेशन द्वारा "इंडियन अचीवर्स अवॉर्ड" । शिक्षक सेवा सम्मान व शिक्षक रत्न सम्मान । प्रत्येक वर्ष 100% परीक्षा परिणाम पुरस्कार ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here