ज़िन्दगी की कहानी

0
11

सांस थम जाती है, देह घुल जाती है

तुम पुकारो भले, फिर नहीं आती है

ज़िन्दगी की यहीं बस कहानी रहीं

पल में मिलती है, पल में बिखर जाती है।

 

… शैली ✍️

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here