रिक्त मधुवन

2
8

टूटती जब साँस तन से
प्राण करता मौन मंथन।
याद आते उस घड़ी फिर
मौन हुए सारे बंधन।

नीर नयनों से छलकता
पूछती फिर प्रीत मन से।
क्यों मचलता आज ऐसे
कल फिरे अपने वचन से।
रोक लो आगे बढ़े पग
साँस महका आज चंदन।
टूटती जब आस….

मोह के बंधन पुराने
हाथ से कब छूटते हैं।
छोभ अंतस में पनपता
तार मन के टूटते हैं।
यूँ हथेली रोक लेती
चूड़ियों का मौन क्रंदन।
टूटती जब आस….

दीप सारे बुझ रहे जब
घेरती हर पल निराशा ।
रोशनी की चाह मरती
दूर होती रोज आशा।
लो झड़े फिर पुष्प सारे
सूखता है रिक्त मधुवन।
टूटती है आस…..
अनुराधा चौहान’सुधी’✍️

2 COMMENTS

  1. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय रचना | शत शत शुभ कामनाएं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here