आज़माया

0
6

हमको  आज़माया   जा  रहा  था

सबकुछ  सच बताया जा  रहा था ।।

पाबंदी  सिखाई   गई   हमें   जब

तब  भी  वक़्त  ज़ाया जा रहा था  ।।

 

-विवेक चतुर्वेदी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here