चाहत

0
7

भारती    तेरे    चरण    की
धूल    बनना    चाहता    हूँ,
चढ़    सकूँ     तेरे   कदम
वो  फूल  बनना  चाहता  हूँ।

चाहता      बनना      सरित
तेरे    चरण   नित  धो  सकूँ,
हर   सकूँ   मैं   प्यास   तेरी
बह   तुम्हीं   में   खो   सकूँ।

एक   सुर   में   बाँध   पाऊँ
एकता   की    डोर    बनना,
दिव्य ,निर्मल पीत – पट  की
चाहता  सित   कोर   बनना।

द्रोह  के   हर   स्वर    दबाऊँ
मैं     वतन   के      वास्ते,
जो करें यश – धन  कलंकित
बन्द      हों  वो      रास्ते।

मैं   जवानों   की   शिरा   में
खून   बन    अविरत     बहूँ,
‘भारती की  जय’  चिता  की
मैं    लपट    बनकर    कहूँ।

शौर्य ,  गौरव  ,  वीरता    की
मैं     बनूँ     ऐसी    कहानी,
राष्ट्र    की    बलिवेदी      पर
चढ़ जाऊँ बन अल्हड़ जवानी।

देश     के    बलिदानियों  में
शीर्ष     मेरा     नाम    आये,
मैं     करूँ    उत्सर्ग     जीवन
अस्थि    मेरी    काम   आये।

चाहता   हूँ    देव    मिट्टी  में
मिलूँ      मैं   क्षार      बनके,
भारती     के    मैं    गले में
झूल     जाऊँ    हार     बनके।

अनिल मिश्र प्रहरी

Anil is a Post Graduate in Economics. He is also an author of three Hindi Poetry books naming-1. Prahari, 2. Rahi Chal and 3. Vande Bharat. All the books are being sold by various online retailers such as Amazon, Flipkart, Bookscamel and so on. Ebooks are also available.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here