लगाव

0
0

कितना अपनापन होता है, चाहे महानगर हो कोई या शहर या अपना छोटा सा गांव.
हर छोटी बड़ी शय से होता, एक गहरा अमिट आत्मिय जुड़ाव.
तपती हो धरा तब भी, शीतलता देती है वो ताड़ कि विरली छावं.
पल भर मे ही छा जाते है, स्मृती पटल पर वो बड़ते नन्हे पांव.

देखते ही देखते हो गए, जीवन मे ये कैसे बड़े अनजाने से बदलाव.
खुद की धरा को छोड़, करे अपने जैसे बेघरो संग कांव कांव.
चंद खुशियो के वास्ते, यकिनन किया बहुत गलत रास्ते का चुनाव.
धन से तो संपन्न हुए, रिश्तो कि खो गई वो प्यारी सी अपनी नावं

हर सुख अपना दूर हुआ, खेला ये बेमतलब का लालच भरा दावं.
तन का सुख भी रास न आए, मिले ना जब मन को अपनेपन कि छावं.
अब लौटा जो पिता के पास, देखा फिर वो छत पर किरणो का बिखराव.
हाथों कि वो जादूगरी. माँ की ऊंगलियो का बालो मे ठहराव.

है यकिनन स्वर्ग यंही, जिसका नौकरी मे है सदा अभाव.
वो जो कर्म भूमि है, जिसको चुनने का था बड़ा ही चांव .
कुछ और नही कोरा वहम था, था बस मन का चंचल भटकाव.
सुख सारा तो अपने घर मे है, बाकि सब आड़म्बरो का बड़ा सा जमाव.

चाँद तू तो पागल है, जो करे हर शय से इस तरह अत्मिय लगाव.
दुख का कारण कुछ और नही, है बस लगाव से मिलने वाले ये घाव.
स्वारचित ©द्वारा सीमा शुक्ला चाँद

I am an assistant professor in higher education department of Madhya Pradesh. I am serving in English Dept. My research is going on in English. I pursued three pg in (ENGLISH, HINDI, AND SOCIOLOGY) I am also Law graduate. I did B.ed. I am Hindu by caste and differently able by physic. I am fond of writing my observations. I love to wonder here and there without thinking about anyone. I love listening music

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here