वो बदल गया…..(सच्ची कहानी)

2
172

ये कहानी बिल्कुल सच्ची है ।जिन बच्चोंं  के सिर से माता या पिता का साया उठ गया उनके जीवन में किस तरह बदलाव आया।यह कहानी उसी का एक उदाहरण है।यह मेरी कक्षा के छात्र की कहानी है जो कक्षा दस का छात्र है। नाम बदल दिया है।

समीर एक ऐसा लड़का जो कभी भी पढ़ना पसंद नही करता था। कक्षा में उसकी भागीदारी ना के बराबर होती थी। कक्षा में भी अब तक बिल्कुल किनारे के अंको द्वारा पास होता था। नवीं कक्षा पूरे वर्ष ऑनलाइन ही हुई थी।तब भी वह कक्षा में नियमित नही था।

किसी तरह उसने नवीं कक्षा पास किया। लेकिन मार्च के अंत से कोरोना की दूसरी लहर ने अपना रंग दिखाना शुरू किया। कई बुरी

खबरों से प्रतिदिन दिल बैठ जाता था। अप्रैल के महीने में भी कई बच्चों ने अपनों को खोया और ऐसा लग रहा था कि उन्होंने अपने

सपनों को भी को दिया हो।एक रात मेरे फोन में एक नंबर जुड़ जाता है। मैने हैरान होकर पूछा कि ये किसका नंबर है।समीर ने कहा कि मैम मैं समीर हूं। मैं उसकी कक्षा अध्यापिका हूं इसलिए वह मुझे शायद बताना चाहता था कि उसके पिता की मृत्यु कोरोना के

कारण हो गई है। मैम मैं सभी विषयों की कक्षा जरूर  लूंगा। मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था। मैने उससे कहा कि नहीं समीर तुम अभी कक्षा नही ले पाओ तो भी कोई बात नही। समीर ने कहा मैम मुझे अपने छोटे भाई का भी खयाल रखना है। मैने उसे पहले कभी इस तरह बात करते नही सुना था। मुझे उसके व्यक्तित्व में एक सकारात्मक बदलाव दिखाई दिया।दो सप्ताह की कक्षा बाकी थी और एक मई से अवकाश होना था।पिता की मृत्यु के अगले दिन भी समीर ने अपनी कक्षा में अपनी उपस्थिति दर्ज़ करवाई।

एक लड़का जिसे ज़िम्मेदारी का कोई पता ना था अचानक समझदार हो गया था। उसके पिता डांस सिखाने का कार्य करते थे। आर्थिक स्थिति भी अच्छी नहीं थी। उसका बदलाव मेरी आँखें नम कर गया। मुझे लगता है उसके अपने गए हैं। वह अपने सपने अवश्य पूर्ण करेगा।  पिता का साया सिर पर नही रहा और वो बदल गया।

ऐसे और भी कई बच्चों ने अपने पिता को या मां को खोया और फिर स्कूल ने निश्चित किया के आगामी दो वर्ष के लिए उनकी शिक्षा

मुफ्त होगी उनके पढ़ने के सपनों को विराम नहीं लगेगा।

रुचिकर हो ना हो लेकिन ये सच्ची कहानी है। वो सच में बदल गया।……….

सीमा शर्मा एक प्रतिष्ठित विद्यालय विभाग प्रमुख शिक्षक पुरस्कार प्राप्त अभिनय, नाट्य लेखन, सूत्रधार कार्य सफलता पूर्वक किए। काव्य,लेख,नाटक ,हास्य लेखन में रुचि। शिक्षा: एम. ए बी. एड, संस्कृत दीक्षा प्राप्त की। महिला मंच और अन्य साहित्य संस्थान से जुड़ी हुई।

2 COMMENTS

  1. Very heart touching. While going through I was really thinking to support the boy to complete his study. School has done commendable job to make his education free. Full marks to the writer for flawless touching story.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here