सिंहासन बत्तीसी : पहली पुतली रत्नमंजरी की कहानी

अंबावती में एक राजा राज करता था। उसका बड़ा रौब-दाब था। वह बड़ा दानी था। उसी राज्य में धर्मसेन नाम का एक और बड़ा राजा हुआ। उसकी चार रानियां थी।…

सिंहासन बत्तीसी: बत्तीसवीं पुतली रानी रूपवती की कहानी

सिंहासन की अंतिम और बत्तीसवी पुतली रानी रूपवती को राजा भोज में सिंहासन पर बैठने को लेकर कोई रूचि न देखकर अचरज हुआ। उसने राजा भोज से जानना चाहा कि…

सिंहासन बत्तीसी: इकत्तीसवीं पुतली कौशल्या की कहानी

इकत्तीसवे दिन सिंहासन की इकत्तीसवीं पुतली कौशल्या ने जाग्रत होकर राजा भोज को विक्रम की कथा सुनाई। जो इस प्रकार है। राजा विक्रमादित्य वृद्ध हो गए थे तथा अपने योगबल…

सिंहासन बत्तीसी: तीसवी पुतली जयलक्ष्मी की कहानी

तीसवे दिन सिंहासन पर जड़ित जयलक्ष्मी नामक तीसवीं पुतली ने राज भोज को जो कथा सुनाई, वह इस प्रकार है। राजा विक्रमादित्य जितने बड़े राजा थे उतने ही बड़े तपस्वी।…

सिंहासन बत्तीसी: उन्तीसवी पुतली मानवती की कहानी

उन्तीसवे दिन सिंहासन की उन्तीसवीं पुतली मानवती ने कथा सुनाई, जो इस प्रकार है। राजा विक्रमादित्य वेश बदलकर रात में घूमा करते थे। ऐसे ही एक दिन घूमते-घूमते नदी के…

सिंहासन बत्तीसी: अट्ठाइसवीं पुतली वैदेही की कहानी

अट्ठाइसवे दिन सिंहासन की अट्ठाइसवीं पुतली वैदेही ने राजा भोज और दरबार में मौजूद दूर-दूर से आए लोगों को कथा सुनाई। जो इस प्रकार है। एक बार राजा विक्रमादित्य अपने…

सिंहासन बत्तीसी: सत्ताइसवी पुतली मलयवती की कहानी

अब राजा भोज समझ चुके थे कि वह इस सिंहासन के योग्य नही है, इसलिए वह सिंहासन पर बैठने का विचार छोड़कर विक्रमादित्य की शौर्यगाथा सुनने की उत्सुकतावश प्रतिदिन दरबार…

सिंहासन बत्तीसी: चौदहवी पुतली सुनयना की कहानी

चौदहवें दिन सिंहासन पर जड़ित चौदहवी पुतली सुनयना ने राजा भोज को एक नई कथा सुनाई वह इस प्रकार है। राजा विक्रमादित्य सारे नृपोचित गुणों के सागर थे। उन जैसा…

End of content

No more pages to load