मन की सकारात्मकता

0
8

मन में हो सकारात्मकता तो, मुश्किल आसान हो जाती है।
बड़े से बड़े पत्थर भी छोड़ देते मार्ग, नैया पार हो ही जाती है।

जीवन में कौन है ऐसा जो नहीं है दुखी और मजबूर?
समस्याओं से जो नहीं घबराता, उसको मंजिल मिल ही जाती है।

सकारात्मक विचारों से सजी यह धरती, कितनी सुंदर लगती है,
वृक्ष हमें देते फल, फूल, राहों में छाया मिल ही जाती है।

सकारात्मकता का प्रभाव जीवन को बनाता आकर्षक और मनमोहक,
चेहरे पर खुशी और मन को शांति मिल ही जाती है।

जो जीवन निर्वाह करते सकारात्मक विचारों के साथ,
उनके जीवन को परिश्रम की महक महकाती ही जाती है।

जो नहीं घबराते ना ही डरकर अपने उद्देश्य को भूलते,
सदा बढ़ते आगे सकारात्मक विचारों के साथ,
सकारात्मकता उनके स्वप्नों को पूर्ण कर ही जाती है।

शाहाना परवीन…✍️
पटियाला पंजाब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here